ईडी ने ब्रजेश ठाकुर की 7.30 करोड़ रुपये की संपत्ति कुर्क की

0
138

प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने बुधवार को कहा कि उसने बिहार के मुजफ्फरपुर आश्रय गृह मामले के मुख्य आरोपी ब्रजेश ठाकुर के 23 भूखंड और तीन वाहनों समेत 7.30 करोड़ रुपये मूल्य की संपत्ति कुर्क की है. मुजफ्फरपुर स्थित आश्रय गृह में लड़कियों से कथित तौर पर रेप हुआ था और उनका यौन उत्पीड़न किया गया था.

ईडी ने कहा कि उसने मनी लॉन्ड्रिंग रोकथाम कानून के तहत ब्रजेश ठाकुर की संपत्तियों को कुर्क करने के लिये अस्थायी आदेश जारी किया है. ब्रजेश ठाकुर आश्रय गृह को चलाने वाले एनजीओ सेवा संकल्प एवं विकास समिति का मालिक था.

प्रवर्तन निदेशालय ने कहा, ‘‘26 भूखंड, तीन वाहन, 37 खातों में जमा राशि, म्यूचुअल फंड और बीमा पॉलिसियों में निवेश को मिलाकर कुल 7.30 करोड़ रुपये की चल एवं अचल संपत्तियां कुर्क की गई हैं. ये संपत्तियां आरोपी ब्रजेश ठाकुर और उसके परिवार की हैं.’’

ईडी ने पिछले साल अक्टूबर में इस संदर्भ में पीएमएलए के तहत एक मामला दर्ज किया था. लड़कियों के कथित यौन शोषण का मामला टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइंसेज (टीआईएसएस) की रिपोर्ट में पहली बार प्रकाश में आया था. यह रिपोर्ट अप्रैल 2018 में राज्य के सामाजिक कल्याण विभाग को सौंपी गई थी.

यह भी पढ़े  हाजीपुर में पुलिसकर्मी की दिनदहाड़े गोली मारकर हत्या

इस आश्रय गृह को चलाने वाले एनजीओ के मालिक ठाकुर समेत 11 लोगों के खिलाफ मई 2018 में प्राथमिकी दर्ज की गई थी. इस मामले की जांच बाद में सीबीआई को सौंप दी गई थी. मेडिकल जांच में आश्रय गृह में रहने वाली 42 में से 34 लड़कियों के यौन उत्पीड़न की पुष्टि हुई थी.

बता दें कि इससे पहले मुजफ्फरपुर के जिलाधिकारी ने बालिका गृह मामले के मुख्य आरोपित ब्रजेश ठाकुर की पत्नी और शेल्टर होम की संचालक एनजीओ के छह अन्य सदस्यों की संपत्ति को भी अटैच कर लिया था। डीएम ने आदेश जारी करते हुए कहा था कि सभी संपत्ति उसी एनजीओ के नाम पर जोड़ दिए जाएं, जो एनजीओ इस आश्रय घर को चलाता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here