इंडोनेशिया में क्रैश हुए विमान को उड़ा रहे थे दिल्‍ली के कैप्‍टन भाव्ये सुनेजा,हादसे में सभी 189 यात्रियों की मौत

0
17

इंडोनेशिया में सोमवार सुबह हुए विमान हादसे के बाद राहत और बचाव कार्य में जुटे दल ने पुष्टि की है कि विमान में सवार सभी यात्रियों की मौत हो गई है. यह खबर न्‍यूज एजेंसी एएफपी के हवाले से है. बता दें कि इंडोनेशिया में सोमवार सुबह बड़ा विमान हादसा हुआ है. यहां इंडोनेशियाई एयरलाइंस लॉयन एयर का विमान सोमवार सुबह से लापता होने के बाद जावा सागर में क्रैश हो गया था. विमान का मलबा मिल गया है. मौके पर राहत और बचाव अभियान शुरू किया गया है.

जकार्ता : इंडोनेशिया में उड़ान भरने के कुछ देर बाद ही समुद्र में क्रैश हुए ‘लॉयन एयर’ के यात्री विमान को दिल्‍ली निवासी कैप्‍टन भाव्ये सुनेजा उड़ा रहे थे. सुनेजा मयूर विहार के रहने वाले हैं और उन्‍हें बेल एयर इंटरनेशनल से 2009 में पायलट का लाइसेंस मिला था. राजधानी जकार्ता से उड़ान भरने वाले इस Boeing 737 Max + विमान में 189 लोग सवार थे. एक अधिकारी के अनुसार, फ्लाइट संख्‍या JT610 का उड़ान भरने के महज 13 मिनट बाद ही ग्राउंड ऑफिशियलस से संपर्क टूट गया था.

विमान के कैप्टन सुनेजा थे और सह-पायलट हरविनो थे. इसमें चालक दल के छह सदस्य थे, जिनमें तीन प्रशिक्षु थे. एक टेक्नीशियन भी विमान में सवार था. बयान के अनुसार, 31 वर्षीय सुनेजा को 6000 उड़ान घंटों का अनुभव था, वहीं सह-पायलट को 5000 से ज्यादा घंटे की उड़ान का अनुभव था.

देश की खोज एवं बचाव एजेंसी मुहम्‍मद स्‍याउगी ने कहा कि अभी हमें पता नहीं कि इस हादसे में कोई बचा है या नहीं. साथ ही उन्‍होंने कहा कि विमान के आपातकालीन ट्रांसमीटर से कोई दिक्‍कत संबंधी संकेत प्राप्त नहीं हुआ था. उन्‍होंने कहा कि हमें उम्‍मीद है, हम प्रार्थना कर रहे हैं, लेकिन हम पुष्टि नहीं कर सकते. उन्‍होंने कहा कि हैंडफोन और कई अन्‍य सामान पानी में 30 मीटर से 35 मीटर (98 से 115 फीट) गहरे के पास पाए गए, जहां प्‍लेन क्रैश हुआ.

यह भी पढ़े  काबुल में दोहरे धमाके से 25 की मौत, 40 घायल, ISIS ने ली हमले की जिम्मेदारी

इंडोनेशिया की आपदा एजेंसी ने हादसे का शिकार हुए विमान की कुछ तस्वीरें ट्विटर पर डालीं थी, जिनमें बुरी तरह टूट चुका एक स्मार्टफोन, किताबें, बैग, विमान के कुछ हिस्से दिख रहे हैं. दुर्घटना की जगह तक पहुंचे खोजी एवं बचाव पोतों ने यह सामान इकट्ठा किया है.

एजेंसी के प्रवक्ता सुतोपो पूर्वो नुग्रोहो ने कहा कि जकार्ता से पांगकल पिनांग शहर जा रहे इस विमान में 181 यात्री और चालक दल के सात सदस्य सवार थे. यात्रियों में तीन बच्चे भी शामिल थे. ‘इंडोनेशियन टीवी’ ने विमान से ईंधन के निकल कर समुद्र में फैलने और विमान के मलबे के कुछ हिस्से की तस्वीरें दिखाई.

इंडोनेशिया में सोमवार सुबह हुए विमान हादसे पर एयरलाइन कंपनी के एक बड़े अधिकारी ने बड़ा खुलासा किया है. कंपनी के अधिकार ने हादसे के बाद कहा है कि जो विमान दुर्घटनाग्रस्‍त हुआ है, उसमें पिछली उड़ान के दौरान तकनीकी खामी थी. हांलाकि कंपनी की प्रक्रिया के तहत उसकी मरम्‍मत कर ली गई थी.

कंपनी के अधिकारी एडवर्ड सिरात ने जानकारी दी कि इस विमान ने सोमवार को उड़ान से पहले एक और सफर तय किया था. उनका कहना है कि इस विमान ने अपनी पिछली उड़ान के तहत डेनपसर से सेंगकारेंग (जकार्ता) का सफर तय किया था. इस दौरान उसमें कुछ तकनीकी खामी सामने आई थी. लेकिन प्रोसीजर के तहत इस तकनीकी खामी को दूर लिया गया था. इस दौरान उन्‍होंने यह नहीं बताया कि यह तकनीकी खामी आखिर थी क्‍या.

यह भी पढ़े  भारतीय इंजीनियर की हत्या करने वाले US नेवी ऑफिसर को उम्रकैद

अधिकारी ने बताया कि जिस मॉडल का विमान सोमवार को दुर्घटनाग्रस्‍त हुआ है, लॉयन एयर के पास उसी मॉडल के 11 विमान और हैं. यह विमान बोइंग 737 मैक्‍स 8 मॉडल के हैं. लेकिन इस विमान के अलावा अन्‍य 10 विमानों में इस तरह की कोई भी तकनीकी खामी नहीं देखी गई थी. उन्‍होंने कहा कि हालांकि भविष्‍य में इन 10 विमानों की सेवाएं बंद करने को लेकर कोई फैसला नहीं किया गया है.

बता दें कि इंडोनेशिया में सोमवार सुबह बड़ा विमान हादसा हुआ है. यहां इंडोनेशियाई एयरलाइंस लॉयन एयर का विमान सोमवार सुबह से लापता होने के बाद जावा सागर में क्रैश हो गया. विमान का मलबा मिल गया है. मौके पर राहत और बचाव अभियान शुरू किया गया है. विमान में 189 यात्री सवार थे. वहीं हादसे के बाद इंडोनेशियाई एनर्जी फर्म पर्टेमिना ने अधिकारिक बयान जारी करके हादसे की पुष्टि की है. साथ ही उसने अपने बयान में कहा है कि जावा के समुद्री तट पर दुर्घटनाग्रस्‍त विमान का मलबा मिला है. इसमें विमान की सीटें भी शामिल हैं.

यह भी पढ़े  भारत के साथ जंग के लिये कोई गुंजाइश नहीं :जनरल आसिफ गफूर

सरकारी एजेंसी के प्रवक्ता मोहम्मद सयायुगी ने एक प्रेस-कांफ्रेस में किसी भी विमान यात्री के बचने की संभावना से इंकार किया. उनका कहना है कि हम आशा कर सकते हैं, भगवान से प्रार्थना कर सकते हैं, लेकिन इसकी संभावना नहीं दिख रहीं है. वहीं लॉयन एयर ग्रुप के सीईओ एडवर्ड सीरैत ने अपने अधिकारिक बयान में घटना के कारणों के बारे में कुछ भी कहने से इंकार किया है.

न्यूज एजेंसी एएनआई की खबर के अनुसार जर्काता से पंगकल पिनांग जा रहे इस विमान का संपर्क एयर ट्रैफिक कंट्रोलर से टूट गया था. सूत्रों का कहना है कि इंडोनेशियाई समय के अनुसार सोमवार सुबह के 6.33 में यह दुर्घटना हुई. इस बात की पुष्टि रॉयटर्स ने इंडोनेशिया के स्थानीय राहत और बचाव अधिकारियों से बातचीत के आधार पर की है. बताया जा रहा है कि इस विमान में करीब 188 यात्री सवार थे.

बता दें कि विमान का संपर्क उड़ान भरने के 13 मिनट बाद ही एयर ट्रैफिक कंट्रोलर से टूट गया था. वहीं समाचार एजेंसी रॉयटर्स से बातचीत में लॉयन एयर ग्रुप के सीईओ एडवर्ड सीरैत ने अधिकारिक बयान में घटना के वास्तविक कारणों के बारे में कुछ भी कहने से इंकार किया है. प्लैन क्रैश में किसी के भी बचने की उम्मीद खत्म हो चुकी है. घटना की आधिकारिक पुष्टि के बाद इंडोनेशिया में विमान यात्रियों के परिजन रोते बिखलते अपने परिवार के लोगों को याद कर रहे हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here