आसाराम को जेल में ही फैसला सुनाने पर राजस्थान हाईकोर्ट में आज सुनवाई

0
13

राजस्थान पुलिस की ओर से हाईकोर्ट में अपील की गई है कि आसाराम केस का फैसला जेल में ही सुनाया जाए. पंचकूला में हुई हिंसा का हवाला देते हुए पुलिस ने फैसले के दिन कानून व्यवस्था बिगड़ने की आशंका जताई गई है.

राजस्थान हाईकोर्ट आज आसाराम के मामले का फैसला जेल में ही सुनाने के लिए पेश किए गए प्रार्थना पत्र पर सुनवाई होगी. जस्टिस गोपालकृष्ण व्यास की खण्डपीठ में होने वाली इस सुनवाई के लिए डीसीपी ईस्ट अमनदीप कपूर सहित पुलिस के आला अफसर कोर्ट पहुंच चुके हैं. जल्द हो मामले में सुनवाई शुरू हो सकती है.

इस मामले में आसाराम के अधिवक्ता महेश बोड़ा कोर्ट में लिखित जवाब पेश करेंगे. संभवतः हाईकोर्ट इस मामले में कोई बड़ा आदेश दे सकती है. यौन उत्पीड़न के इस मामले में एससी-एसटी कोर्ट पीठासीन अधिकारी मधुसुदन शर्मा आगामी 25 अप्रैल को फैसला सुनाने वाले हैं. जोधपुर कमिश्नरेट ने हाईकोर्ट में एक अर्जी दायर कर आसाराम को जेल में ही फैसला सुनाने का अनुरोध किया है. पुलिस ने अपनी अर्जी में कानून व्यवस्था का हवाला देते हुए कोर्ट के समक्ष 9 बिंदु रख आसाराम को जेल में ही फैसला सुनाने की गुहार की है.

यह भी पढ़े  अयोध्या विवाद में आज अहम सुनवाई, कोर्ट करेगा विचार- क्या मस्जिद इस्लाम का अनिवार्य हिस्सा है?

एससी-एसटी कोर्ट 25 अप्रैल को यौन उत्पीड़न के मामले में फैसला सुनाएगी और इसे लेकर राजस्थान पुलिस की ओर से फैसला सुनाने के दिन कानून व्यवस्था बिगड़ने की आशंका जताते हुए हाईकोर्ट से आग्रह किया, कि फैसला जेल में सुनाया जाए. पुलिस ने कहा है कि इस दिन बड़ी संख्या में आसाराम के समर्थक एकत्र हो सकते हैं. पुलिस ने पंचकूला में दुष्कर्म के आरोपी बाबा राम-रहीम को सुनाई गई सजा के दिन हुई हिंसा का भी हवाला दिया.

फैसले की तारीख को देखते हुए पुलिस अभी से सतर्क हो गई है. पुलिस आसाराम के आश्रमों व जोधपुर आने वाले रेल मार्ग व हवाई मार्गों पर भी बराबर नजर बनाए है. फैसले के दिन समर्थकों के बड़ी संख्या में जोधपुर पहुंचने की खुफिया रिपोर्ट मिलने के बाद पुलिस चितिंत है. वह फूंक फूंककर कदम रख रही है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here