आशा कार्यकर्ताओं का बेमियादी हड़ताल तीसरे दिन भी जारी

0
18
ASHA WORKERS KA PERDERSHAN

आशा संयुक्त संघर्ष मंच के आह्वान पर आशाकर्मियों का सरकारीकर्मी घोषित करने, 18 हजार मानदेय देने, उच्चस्तरीय समिति की अनुशंसा को आशा के लिये लागू करने सहित 12 सूत्री प्रमुख मांगों को लेकर मंगलवार को तीसरे दिन भी अनिश्चितकालीन हड़ताल जारी रहा। अनिश्चितकालीन हड़ताल के तीसरे दिन बिहार राज्य आशा कार्यकर्ता संघ के बैनर तले संघ से जुड़ी सैकड़ों आशाओं ने पूरे बिहार में संघ महासचिव, विद्यावती पांडे, सचिव सबया पांडे, अनिता, देवंती, तरन्नुम फैजी, जुली कुमारी, वीणा देवी के नेतृत्व में अलग-अलग प्राथमिक स्वास्य केन्द्रों में तालाबंदी व धरना-प्रदर्शन कर आंदोलन को सफल बनाया। वहीं पटना जिला सहित मुजफ्फरपुर, रोहतास, भोजपुर, नवादा, नालंदा, भागलपुर, दरभंगा, मोतिहारी आदि जिलों खासकर पटना जिला के बिक्रम, नौबतपुर आदि पीएचसी केंद्रों के मुख्य द्वार पर बिहार राज्य आशा कार्यकर्ता संघ से जुड़ी आशाकर्मियों ने तालाबंदी कर दिया तथा आपातकालीन कायरे को छोड़कर शेष सभी कामको ठप कर दिया। नौबतपुर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शर्म करो, नीतीश कुमार मुर्दाबाद, जो हमसे टकराएगा चूर-चूर हो जाएगा, हम मजदूर हैं मजबूर नहीं, हमारी मागें पूरी करो, 12 सौ में दम नहीं 18 हजार से कम नहीं आदि नारों के साथ पीएचसी पर प्रदर्शन के बाद आशाकर्मियों ने एनएच पर प्रदर्शन किया। बिहार के तीन आशा संगठनों के आशा सन्युक्त संघर्ष मंच के नेतृत्व में बिहार के आशा कर्मियों की अनिश्चितकालीन हड़ताल आज तीसरे दिन भी पूरे बिहार में जारी रहा। इस हड़ताल के कारण पूरे बिहार की ग्रामीण स्वास्य सेवा पूरी तरह ठप हो गया है। आशाकर्मियों ने राज्य के 90 प्रतिशत पीएचसी की आकस्मिक स्वास्य सेवा छोड़ कर सभी काम ठप कर दिया है। बिहार राज्य आशा कार्यकर्ता संघ (ऐक्टू-गोप गुट) की अध्यक्ष शशि यादव ने जारी बयान में हड़ताल को शतप्रतिशत सफल करार देते हुए कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार महिला सशक्तीकरण का झूठा दावा बन्द करें और राज्य की एक लाख कामकाजी आशा महिलाओं के जीवन दशा में बेहतरी, उन्हें और अधिक स्वावलम्बी-आत्मनिर्भर बनाने के लिये आशाकर्मियों की जीवन मरण से जुड़ी मांगों को अविलम्ब पूरा करने की मांग करें।

यह भी पढ़े  रबी महोत्सव रथों को मुख्यमंत्री ने दिखायी हरी झंडी

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here