आपदा किसी के वश का चीज नहीं है लेकिन प्रयास से उसके प्रभाव को कम किया जा सकता :मुख्यमंत्री

0
23

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा है कि आपदा किसी के वश का चीज नहीं है लेकिन अपने प्रयास से उसके प्रभाव को कम किया जा सकता है ताकि लोगों को आपदा का कष्ट कम से कम सहन करना पड़े।उन्होंने आपदा प्रबंधन विभाग को पहले से सचेत रहने के लिए धन्यवाद दिया।

मुख्यमंत्री ने कहा कि मौसम विभाग ने इस बार वर्षा की अच्छी संभावना जतायी है। हमारी यह प्रार्थना है कि आपका आकलन सही हो ताकि लोगों को राहत मिले। उन्होंने कहा कि जिले के प्रभारी सचिव/प्रधान सचिव एक सप्ताह के बाद अपने-अपने जिलों में जाकर सारी तैयारियों का आकलन एवं समीक्षा कर लें ताकि 30 जून के पूर्व सभी तैयारियां कर ली जायें।

जिलाधिकारी के आपदा राहत कोष में वित्त विभाग राशि उपलब्ध कराने की व्यवस्था करे ताकि बाढ़ आपदा की स्थिति में 24 घंटे के अंदर पीड़ितों को राशि उपलब्ध कराया जा सके। मुख्यमंत्री ने ब्लॉक एवं अनुमंडल स्तर के पदाधिकारी जिनका स्थानांतरण अभी हुआ है, उन्हें आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के सहयोग से बाढ़ राहत संबंधी ट्रेनिंग/ओरियेंटेशन करा दी जाए ताकि वे अपना कार्य बेहतर ढंग से कर सकें।

यह भी पढ़े  रन फॉर यूनिटी:सरदार पटले की जयंती पर बिहार में मना राष्ट्रीय एकता दिवस

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने आज 1 अणे मार्ग स्थित नेक संवाद, में बाढ़ पूर्व तैयारियों की समीक्षा बैठक की। समीक्षा बैठक में सभी प्रमंडल एवं जिलों के वरीय अधिकारी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से जुड़े हुए थे। समीक्षा बैठक में संभावित बाढ़ 2018 एवं सुखाड़ की स्थिति से पूर्व की तैयारी के विभिन्न बिन्दुओं पर चर्चा की गई।

मुख्यमंत्री ने पदाधिकारियों को संबोधित करते हुए कहा कि वर्ष 2016 में गंगा नदी के किनारे स्थित जिलों में भी बाढ़ आयी थी। पटना शहर की बाढ़ से सुरक्षा के लिए गंगा किनारे पटना टाउन प्रोटेक्शन वॉल जो गोलघर से दानापुर तक विस्तृत है, उसकी मजबूती के लिए भी सतर्क रहने की जरुरत है।

उन्होंने कहा कि बाढ़ से बचाव की तैयारी के साथ-साथ संभावित सुखाड़ की स्थिति से निपटने की पूर्ण तैयारी रखनी चाहिए। सुखाड़ की स्थिति में आकस्मिक फसल योजना का लाभ लोगों तक पहुंचे, इसके लिए ध्यान देने की जरुरत है।

यह भी पढ़े  2019 में एनडीए का साथ नहीं छोड़ेंगे नीतीश कुमार, विधानसभा चुनावों पर लेंगे फैसला

इस बार डीजल का दाम बढ़ा हुआ है, अतः डीजल के सब्सिडी का रेट बढ़ाकर दिया जाएगा ताकि किसानों को डीजल खरीदने में किसी भी तरह की कोई परेशानी न हो। कृषि विभाग तत्काल इस पर कार्रवाई करे। मुख्यमंत्री ने कहा कि बिजली की आपूर्ति भी सुनिश्चित कीजिए ताकि लोगों को सहूलियत हो।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here