आज 15 नवम्बर का इतिहास

0
14

15 नवम्बर सन 1630 ईसवी को जर्मनी के प्रसिद्ध खगोल शास्त्री युहान केपलर का 59 वर्ष की आयु में देहांत हुआ। वे 1571 ईसवी में पैदा हुए तथा शिक्षा प्राप्ति के बाद ऑस्ट्रिया चले गये और वहॉ शिक्षा देने लगे। उपग्रहों की चाल के बारे में केपलर क़ानून तथा मंगलग्रह द्वारा अपनी कक्षा में अंडाकर चक्कर की खोज उन्ही के अध्ययन का परिणाम है।

15 नवम्बर सन 1884 ईसवी को अफ़्रीक़ा महाद्वीप में योरोपीय देशों के लिए उपनिवशों को बॉटने के लिए जर्मनी की राजधानी बर्लिन में कॉन्फ़्रेन्स आरंभ हुई। अगले वर्ष 26 फ़रवरी तक चलने वाली इस कॉन्फ़्रेन्स में फ़्रांस बिटेन, रुस, बेल्जियम, पुर्तग़ाल ऑस्ट्रिया तथा जर्मनी के प्रतिनिधियों ने भाग लिया। अफ़्रीक़ा महाद्वीप में अपने उपनिवेशों के विस्तार को लेकर इन देशों में मतभेद उत्पन्न हो गये थे जिसे दूर करने के लिए यह कॉन्फ़्रेन्स हुई। इस सम्मेलन में यह निर्णय लिया गया कि जो योरोपी देश अफ़्रीक़ा के किसी भाग को अपना उपनिवेश बनाएगा , तो बनाने से पहले वह इस बारे में समस्त योरोपीय देशों को सूचित करेगा। इस समझौते के बाद भी उपनिवेशों में विस्तार को लेकर योरोपीय देशों में प्रतिस्पर्धा जारी रही।

15 नवम्बर सन 1884 ईसवी को जर्मनी के लेखक ग्रेहाई होप्टमैन का जन्म हुआ। उन्होंने युवावस्था से ही लिखना आरंभ कर दिया और पहाड़ का बेटा नाम से अपनी पहली पुस्तक प्रकाशित की। जिसका जनता ने बड़ा स्वागत किया। 1912 ईसवी में उन्हें नोबल पुरस्कार से सम्मानित किया गया। 1940 में ग्रेहाई का निधन हो गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here