आज 15 दिसंबर के इतिहास

0
246

15 दिसम्बर सन 1516 ईसवी को दक्षिणी अमरीकी देश अर्जेनटइना की खोज के बाद, स्पेन के आप्रवासियों का पहला गुट इस स्थान पर पहुँचा। इस प्रकार इस देश पर स्पेन का अधिकार आरंभ हुआ। यह क़ब्ज़ा अर्जेन्टाइना की जनता द्वारा वर्ष 1916 में किए गए विद्रोह तक जारी रहा। इस समय अर्जेन्टाइना में लोकतांत्रिक शासन व्यवस्था है। यह देश एटलांटिक महासागर के तट पर स्थित है।

15 दिसम्बर सन 1852 ईसवी को फ्रांस के भौतिकशास्त्री तथा प्रसिद्ध आविष्कारक हेनरी बेकरेल का पेरिस में जन्म हुआ। उन्होंने 1896 ईसवी में ऐसे पदार्थ की खोज की जो रेडियो धार्मिता की विशेषता रखता था। इसी उपलब्धि के लिए उन्हें 1902 में नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

15 दिसम्बर सन 1975 ईसवी को पश्चिमी सहरा को छोड़ने की स्पेन की घोषणा के बाद से इस क्षेत्र पर स्पेन का अधिकार समाप्त हुआ। स्पेन ने वर्ष 1884 ईसवी से पश्चिमी सहरा को अपना उप निवेश बना लिया था। लगभग एक शताब्दी के बाद स्थानीय लोगों ने संगठित होकर स्पेन के सैनिकों के विरुद्ध छापामार कार्रवाई आरंभ कर दी। 1973 में यह संघर्ष अत्यंत व्यापक हो गया और 1975 में स्पेन को यह क्षेत्र छोड़ना पड़ा। इस क्षेत्र को एक गणराज्य घोषित किया गया किंतु इसके बाद से मोरक्को इस क्षेत्र पर अपने स्वामित्व का दावा करने लगा। इसी लिए यह निर्णय लिया गया कि इस क्षेत्र के भविष्य के निर्धारण के लिए संयुक्त राष्ट्र के निरीक्षण में एक जनमत संग्रह कराया जाए। पश्चिमी सहरा अफ़्रीक़ा महाद्वीप के उत्तर पश्चिमी भाग में स्थित है।

यह भी पढ़े  आज 04 अप्रैल 2018 का इतिहास

15 दिसम्बर वर्ष 1859 को पोलैंड के प्रसिद्ध लेखक, चिकित्सक और शब्दकोश विशेषज्ञ डॉक्टर एल एल ज़ामेनहोफ़ का जन्म हुआ। उन्होंने एक संयुक्त अंतर्राष्ट्रीय भाषा तैयार करने की कोशिश की और उनका मानना था कि इस प्रकार राष्ट्रों को एक दूसरे के निकट लाया जा सकता है। ज़ामेनहोफ़ ने यूरोपीय भाषाओं की गहन जानकारी और अध्ययन के आधार पर एसपेरानतो अर्थात आशा नामक एक विशेष भाषा का आविष्कार किया जिसमें लेखन की दृष्टि से किसी प्रकार की ग़लती की संभावना नहीं है और हर शब्द को जिस तरह बोला जाता है उसी तरह लिखा भी जाता है। कोई भी व्यक्ति 28 अक्षरों और व्याकरण के 16 नियमों को याद करके एसपेरानतो भाषा बोलने और लिखने में सक्षम हो सकता है। इसके बावजूद डॉक्टर ज़ामेनहोफ़ की आशा के विपरीत उनकी भाषा प्रचलित नहीं हो पाई। वर्ष 1917 में 58 साल की आयु में उनका निधन हो गया।

15 दिसम्बर वर्ष 1966 ईसवी को दुनिया की सबसे बड़ी एनीमेशन कंपनी के संस्थापक वॉल्ट डिज़नी का निधन हुआ। वे वर्ष 1901 में पैदा हुए थे। उन्होंने हार्वर्ड विश्वविद्यालय से फ़ाइन आर्ट्स में डॉक्ट्रेट की डिग्री प्राप्त की। उन्होंने पहले विज्ञापनों के लिए पेंटिंग का काम आरंभ किया और इसके बाद संक्षिप्त कार्टून फिल्में बनाईं। वॉल्ट डिज़नी ने एक कंपनी स्थापित करने के बाद ऐसी एनीमेशन फिल्में बनाईं जो हॉलीवुड की बेहतरीन फ़िल्मों में गिनी जाती हैं। इन फ़िल्मों में उन्होंने मिक्की माउस और डोनालड डक जैसे अमर चरित्र गढ़े वाल्ट डिज़नी कंपनी की ओर से बनाई गई फ़िल्मों को दसियों बार ऑस्कर पुरस्कार प्राप्त हुए हैं।

यह भी पढ़े  आज 24 सितम्बर का इतिहास

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here