90 सेकेंड तक आसमान में भारत-पाकिस्तान के लड़ाकू विमान करते रहे डॉग फाइट : मीडिया रिपोर्ट

0
108

पुलवामा हमले के बाद भारत ने पाकिस्तान की सीमा में घुसकर आतंकी शिविरों को निशाना बनाया. इस दौरान पाकिस्तान ने एयरफोर्स के पायलट अभिनंदन को पकड़ लिया, जिसे आज पाकिस्तान वापस कर देगा. मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, 90 सेकेंड तक आसमान में भारत-पाकिस्तान के लड़ाकू विमान डॉग फाइट करते रहे. बता दें कि भारतीय पायलट अभिनंदन वर्तमान जो मिग 21 (Mig-21) विमान उड़ा रहा था उसे रूस ने बनाया है और पाकिस्तान वायुसेना ने बुधवार को 90 सेकेंड तक जम्मू-कश्मीर के राजौरी जिले में नौशेरा के आसमान पर एफ 16 (F-16) उड़ाया था, उसे यूएस ने बनाया है. इसकी जानकारी भारतीय वायुसेना के एक सीनियर आफिसर ने दी.

90 सेकेंड में पाकिस्तान के लड़ाकू विमानों ने दो अरमान मिसाइल दागे. इस पर Mig-21 ने चौथी पीढ़ी के F-16 लड़ाकू को मार गिराया. इतिहास के किताबों में दोनों फाइटरों के बीच की विषमता पर विचार करेगा. इसके तुरंत बाद विंग कमांडर अभिनंदन वर्तमान द्वारा संचालित Mig को मार गिराया गया. अरमान मिसाइलें दृश्य श्रेणी की मिसाइलों से परे हैं. इसका अर्थ है कि वह स्टैंडआफ दूरी से फायर कर सकता है. इस मिसाइल का उपयोग सभी मौसम और दिन-रात में किया जा सकता है. भारत की ओर से अरमान मिसाइल के टुकड़े बरामद किए गए हैं, जिसे सेना अध्यक्षों ने प्रेसवार्ता में सार्वजनिक किया. हिन्दुस्तान टाइम्स में छपी खबर के अनुसार, सिर्फ F-16 विमान ही अरमान मिसाइल फायर कर सकता है. जब अमेरिका ने पाकिस्तान को यह विमान बेचा था तो तब कुछ शर्तें रखी गई थीं, लेकिन पाकिस्तान ने उन शर्तों और नियमों का उल्लंघन किया है. शर्तों के अनुसार, सैनिक इसका इस्तेमाल आक्रमण या चढ़ाई के लिए नहीं कर सकते हैं. इसका इस्तेमान सिर्फ खुद की रक्षा के लिए करना था.

यह भी पढ़े  चुनावी बिगुल बजते ही 24 घंटे के अन्दर हटाना होगा बैनर-पोस्टर

अमेरिका में बने F-16, फ्रांस में बने मिराज और पाकिस्तान में बने JF-17 लड़ाकू विमानों समेत पाकिस्तान के 12 फाइटरों के आने का पता भारत के एयरबोर्न वार्निंग एंड कंट्रोल सिस्टम (AWAC) द्वारा लगाया गया था. अब पाकिस्तान भारत द्वारा जैश-ए-मोहम्मद के आतंकी शिविरों पर किए गए हवाई हमलों का जवाब दे रहा है. पाकिस्तान के लड़ाकू विमानों के आने की सूचना पर अवंतीपुरा, श्रीनगर और अन्य हवाई क्षेत्रों के फाइटर तैयार हो गए. इस दौरान Mig-21 सबसे नजदीक था और उसने पाकिस्तान फाइटरों से संपर्क किया. इस दौरान AWAc और दूसरे भारतीय फाइटर भी सचेत हो गए. इसके बाद Mig-21 ने F-16 को पूरी तरह लॉक कर दिया, जब वह 15000 फीट और F-16 लगभग 9000 फीट पर उड़ रहा था. Mig-21 आसमान पर उड़ने के दौरान ही F-16 पर हमले के लिए पूरी तैयार हो गया. इसके बाद F-16 वापस चला गया. बता दें कि F-16 करीब 26000 फीट चढ़ गया था.

यह भी पढ़े  INDvsPAK: पाकिस्तान पर भारत की जीत के बाद बोले अमित शाह- 'एक और सर्जिकल स्ट्राइक'

काफी समय तक मिग 21 के पायलट ने अपने विमान को कुशलता से PAF फाइटर के पीछे चलाया, जिससे अधिकतम प्रभाव के लिए साठ डिग्री के कोण पर स्थित हो गया. इसने F-16 पर रूस द्वारा बनाई गई वायम्पेल R-73 (नाटो नाम AA-11 आर्चर) मिसाइल दागी. यहां तक कि R 73 मिसाइल अपने लक्ष्य में घुस रही थी कि F 16 के विंगमैन क्रॉस हेयर में चले गए. उसने अपने हथियार को निकाल दिया और मिग 21 को मारा. हालांकि, मिग 21 का कोई रेडियो कॉल प्राप्त नहीं हुआ. वास्तव में Mig 21 को 1960 के दशक में शीत युद्ध की ऊंचाई पर डिजाइन और विकसित किया गया था, ताकि वह एफ 16 को आसानी से मार गिराए. F-16 को मार गिराने वाला Mig 21 1980 के दशक में भारतीय वायु सेना में शामिल हो गया था.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here