आज फिर होगी अयोध्या विवाद पर SC में सुनवाई, रामलला के वकील देंगे तर्क

0
43

रामजन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद पर सुप्रीम कोर्ट में रोजाना सुनवाई हो रही है. सोमवार को इस मामले की सुनवाई नहीं हो पाई थी, इसलिए अब मंगलवार को मामला आगे बढ़ेगा. 6 अगस्त से इस मामले को सर्वोच्च अदालत में रोजाना यानी हफ्ते में पांच दिन सुना जा रहा है. सोमवार को जस्टिस बोबड़े अदालत में अनुपस्थित रहे, इसी वजह से मामला सुना नहीं गया. आज रामलला विराजमान के वकील सीएस. वैद्यनाथन एक बार फिर अदालत में अपनी दलील पेश करेंगे.

अभी तक की दलीलों में रामलला के वकील की तरफ से पौराणिक, ऐतिहासिक तथ्यों का हवाला दिया गया, कुछ रिपोर्ट, पुरातत्व विभाग की तस्वीरें भी साझा की. सीएस. वैद्यनाथन ने अदालत में कहा कि जन्मभूमि स्थान पर बाबरी मस्जिद से पहले मंदिर था और उसके कई साक्ष्य भी थे. सुप्रीम कोर्ट में उन्होंने इस दौरान कुछ स्तंभों जिनपर भगवान के चित्र थे, उनका जिक्र किया. कुछ नक्शे भी दिखाए.

मामले की सुनवाई कर रहे जजों ने भी कई सवाल पूछे और रामलला के वकीलों से जवाब मांगे. फिर चाहे रामजन्मभूमि पर दावा करने का सबूत हो या फिर मंदिर गिराने का आदेश बाबर ने ही दिया था ऐसा कोई सबूत हो.

यह भी पढ़े  कर्नाटक जदयू द्वारा आयोजित कार्यक्रम में भाग लेने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार आज जायेंगे बेंगलुरु

आपको बता दें कि मंगलवार को रोजाना सुनवाई का आठवां दिन है. 6 अगस्त तक रोजाना सुनवाई हुई, शुरुआत में निर्मोही अखाड़ा की तरफ से अदालत में अपनी दलीलों को पेश किया गया, उसके बाद से ही रामलला विराजमान के वकील अपनी बात रख रहे हैं.

SC की तरफ से आदेश दिया गया है कि कोई भी वकील जितना समय लेना चाहे वो ले सकता है, समय की कोई सीमा नहीं है. रोजाना सुनवाई से पहले अदालत ने मध्यस्थता का रास्ता भी दिया था, लेकिन उससे काम नहीं हो सका.

इस विवाद की सुनवाई चीफ जस्टिस रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पांच सदस्यीय संवैधानिक पीठ कर रही है. इसमें जस्टिस एस. ए. बोबडे, जस्टिस डी. वाई. चंद्रचूड़, जस्टिस अशोक भूषण और जस्टिस एस. ए. नजीर भी शामिल हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here