आखिर उसके खिलाफ एफआइआर क्यों नहीं दर्ज की गई : पटना हाईकोर्ट

0
155

पटना हाईकोर्ट के वकील विशाल विक्रम राणा की पुलिसकर्मियों द्वारा पिटाई मामले में कंकड़बाग थाने के एक एएसआइ को सस्पेंड कर दिया गया है। घटना में शामिल अन्य दोषियों के खिलाफ जांच की जा रही है। इस बात की जानकारी मंगलवार को एसएसपी मनु महाराज ने हाईकोर्ट ने हलफनामा दायर कर दी। अदालत ने दोषी पुलिसकर्मी के खिलाफ की गई कार्रवाई को अपर्याप्त मानते हुए पूछा कि आखिर उसके खिलाफ एफआइआर क्यों नहीं दर्ज की गई।

न्यायाधीश दिनेश कुमार सिंह एवं न्यायाधीश अरूण कुमार की खंडपीठ ने मंगलवार को घटना पर सुनवाई की। सुनवाई के दौरान वरीय अधिवक्ता राजेन्द्र प्रसाद सिंह ने कहा कि शराबबंदी कानून की आड़ में पुलिस ज्यादती कर रही है। खंडपीठ ने कोर्ट में मौजूद एसएसपी मनु महाराज सेे कहा कि शराबबंदी कानून के दुरुपयोग की अनेक घटनाएं अदालत में आ रही हे। इसलिए शराबी अथवा शराबबंदी से जुड़ी घटनाओं का वीडियो क्यों नहीं बनाया जाता? कोर्ट ने एसएसपी से गुरुवार तक हलफनामा दायर कर बताने को कहा कि अभियुक्तों की धर पकड़ कैमरे के सामने क्यों नहीं हो सकती?

यह भी पढ़े  मुख्यमंत्री आज दिल्ली और सोमवार को जम्मू जाएंगे

गौरतलब है कि रविवार की रात पीडि़त वकील को पुलिस ने पकड़ लिया था। तलाशी में उनके बैग में फाइलें मिलीं। अनावश्यक रूप से काफी देर तक रोक रखे जाने पर वकील राणा ने विरोध किया। इस पर उसे थाना ले जाया गया। जहां उसकी पिटाई कर दी गई। अकारण पिटाई एवं दुव्र्यव्यहार किये जाने की शिकायत अदालत से की गई। शिकायत को गंभीरता से लेते हुए कोर्ट ने एसएसपी को तलब किया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here