अब कृषि मंत्री एक दिन किसान बनकर गांवों में रात्रि विश्राम करेंगे

0
45

पटना- खेत-खलिहान और किसानों से अपनत्व की खातिर अब कृषि मंत्री एक दिन किसान बनकर गांवों में रात्रि विश्राम करेंगे। कृषि मंत्री के लिए गांव में खटिया लगेगी और उनके चारों ओर किसान बैठकर खेती से संबंधित बात करेंगे। मानसून बीतने के बाद मंत्रीजी के लिए गांव में रात्रि विश्राम का कार्यक्रम तैयार किया जायेगा। साथ ही हर पंचायत के लिए अलग बजट बनाने की तैयारी हो रही है। शहरों में भाजपा के केंद्रीय मंत्री व वरिष्ठ नेता जहां संपर्क फॉर समर्थन अभियान के क्रम में गणमान्य लोगों के घर जाकर समर्थन मांग रहे हैं, वहीं राज्य सरकार में भाजपा के मंत्री मंत्री डॉ. प्रेम कुमार ने किसानों के बीच रात्रि विश्राम करने का नायाब तरीका ढ़ूंढ़ निकाला है। संभवत: 15 अगस्त से प्रतिदिन गांव में रात्रि विश्राम का कार्यक्रम सामने आ जायेगा। इस कार्यक्रम का नाम ‘‘कृषि मंत्री किसानों के द्वार’ रखा गया है। लक्ष्य है प्रदेश के चारों कोण के किसानों से संपर्क करना। कृषि मंत्री डॉ. प्रेम कुमार ने खास बातचीत में कहा कि वे गांव-गांव में जाकर किसानों से मिलेंगे और उनकी समस्याओं को सुनकर उनका समाधान भी करेंगे। प्रदेश के किसानों को आकर्षित करने के अलावा एक अन्य महत्वकांक्षी योजना भी चल रही है। इसके तहत प्रत्येक पंचायत में कृषि कार्यालय खोला जा रहा है। फिलहाल प्रदेश की करीब 1000 पंचायतों में कृषि कार्यालय खुल चुके हैं, जबकि शेष करीब 7500 पंचायतों में कृषि कार्यालय खोलने की प्रक्रिया चल रही है। सभी किसान सलाहकारों व किसान समन्वयकों की डय़ूटी गांव के बीच पंचायत कार्यालयों में लगेगी। कृषि पदाधिकारी पंचायत में ही किसानों की समस्याओं को सुनेंगे। राज्य सरकार को पूरा फोकस गांवों पर है। महत्वपूर्ण बात यह है कि हर पंचायत के लिए कृषि विभाग की तरफ से अलग बजट तैयार किया जायेगा। कृषि मंत्री ने बताया कि पंचायतों की आवश्यकता के अनुसार बजट का प्रावधान किया जाएगा। पंचायत के लिए निर्धारित बजट राशि संबंधित पंचायत पर ही खर्च की जायेगी। पहली बार पंचायतवार बजट के प्रावधान की योजना तैयार की जा रही है। उल्लेखनीय है कि अगले वर्ष लोकसभा चुनाव है। किसी को जीत दिलाने और हराने में किसानों की बड़ी भूमिका होती है। ऐसे में भाजपा नेता व कृषि मंत्री डॉ. प्रेम कुमार ने विशेष मिशन के तहत गांवों की ओर रुख कर दिया है। वैसे भी भाजपा ने प्रदेश के सभी बूथों पर अपनी धाक जमाने की रणनीति तैयार की है। 62 हजार से अधिक बूथों तक भाजपा को पहुंचना है। किसानों को आकर्षित करने के लिए कृषि विभाग की तरफ से किसान चौपाल का आयोजन हो रहा है। अब तक पांच हजार से अधिक चौपाल का आयोजन किया जा चुका है।

यह भी पढ़े  अररिया में रहा है समाजवादियों का दबदबा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here