अबतक 164 ई-किसान भवन का निर्माण कार्य पूरा :डॉ. प्रेम

0
12

राज्य के कृषि मंत्री डॉ. प्रेम कुमार ने कहा कि विभाग के द्वारा गुणवत्तापूर्ण आधार संरचना का निर्माण कराने के प्रति सरकार गंभीर है। अभी तक 210 प्रखंडों में ई-किसान भवन की निर्माण की योजना स्वीकृत की गई थी, जिनमें से अब तक 164 ई-किसान भवन का निर्माण कार्य पूर्ण कर लिया गया है । डॉ. प्रेम आज कृषि विभागीय आधारभूत संरचना के विकास के लिए बिहार सरकार की विभिन्न एजेंसियों के साथ विकास भवन के सभागार में एक बैठक को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि फिलहाल 17 ई-किसान भवन में निर्माण कार्य चल रहा है। शेष ई-किसान भवनों के निर्माण हेतु अब तक जमीन उपलब्ध नहीं हो पायी है। जमीन उपलब्ध होते ही इनका भी निर्माण शीघ्र करा लिया जायेगा। इन ई-किसान भवनों के निर्माण हेतु 16429 लाख रुपये की स्वीकृत प्रदान की गई है, जिनमें से 15700 लाख रुपये आवंटित कर दिये गये हैं। उन्होंने योजना विकास विभाग के मुख्यालय स्तर के पदाधिकारियों से ई-किसान भवनों के निर्माण कार्य का सतत पर्यवेक्षण एवं निरीक्षण करने का निर्देश भी दिया। साथ ही ई-किसान भवन के राज्य नोडल पदाधिकारी को इस पर त्वरित कार्रवाई करने का निर्देश दिया। कृषि मंत्री को बताया गया कि राज्य के चिह्नित 20 बीज गुणन प्रक्षेत्रों की घेराबंदी के लिए 2060.25378 लाख रुपये एवं 23 प्रक्षेत्रों में बीज को सुरक्षित रखने हेतु गोदाम निर्माण करने के लिए 266.67 लाख रुपये स्वीकृत किये गये हैं। इन दोनों कायरे के लिए कृषि विभाग द्वारा योजना विकास विभाग की एजेन्सी एलएईओ को 2326.9248 लाख रुपये आवंटित कर दिये गये हैं। डॉ. कुमार ने कहा कि सेन्टर ऑफ एक्सलेंस, देसरी, वैशाली तथा चंडी, नालंदा का भवन निर्माण कार्य करने हेतु कृषि विभाग द्वारा भवन निर्माण विभाग को क्रमश: 4,29,63,000 रुपये तथा 2,56,50,000 रुपये की राशि उपलब्ध करा दी गई है। उन्होंने संबंधित पदाधिकारियों को निदेश दिया कि इन जगहों पर भवन निर्माण का कार्य शीघ्र पूरा किया जाय। इस बैठक में कृषि विभाग के विशेष सचिव रवीन्द्र नाथ राय, मंत्री के विशेष कार्य पदाधिकारी नरेन्द्र कुमार लोहानी, एलएईओ के मुख्य अभियंता, आधारभूत संरचना विकास प्राधिकार (आयडा), पटना के सहायक अभियंता, भवन निर्माण विभाग के परियोजना निदेशक एवं संबंधित क्षेत्र के कार्यपालक अभियंतागण सहित अन्य विभागीय पदाधिकारी मौजूद थे।

यह भी पढ़े  गांधी मैदान बनेगा रमणीक स्थल

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here